गुरुवार, 29 अगस्त 2013

मेरे घनश्याम



                                      मेरे  घनश्याम 

 
 
 
 
                             मुरली बजा  के सबको लुभा के  चले आओ प्रभु घनश्याम 
 
                                                       आओ आओ ओ मेरे घनश्याम 
 
                            नैना छलकते है  मन  से तरसते है 
 
                                                                              अब न सताओ  भगवन 
 
                               हा चले आओ ओ मेरे घनश्याम। …… 
 
 
 
                रास रचाते हो , माखन चुराते हो  ढूंढें जो तुमको तो झट छुप जाते हो 
 
                 गोकुल  की गलियों की शान  चले आओ क्रिशन भगवान्  १
 
 
 
                    कंस से मामा  को स्वर्ग दिखाते हो अर्जुन सखा बनके रथ भी चलते हो 
 
                    देते हो गीता का ज्ञान  चले आओ सखा घनश्याम। .... २ 
 
 
 
 
                     कही गोपियाँ के कपडे चुराते हो ,कही अबलाओ की लाज बचाते हो 
 
                      तुमसे हमारा भी है मान  एक बार दरस दो हे राम। । 
                           

सोमवार, 26 मार्च 2012

हे नारायण जब धरती पर था पाप बढ़ा तो प्रभु आये

                                

                                हर कण हर अणु में बसे , नारायण जगदीश

                                                                      आओ हम सब मिल कर के , उन्हें नवायें शीश



                                        हे नारायण  जब धरती पर था पाप बढ़ा तो प्रभु आये

                                       जीवो में कष्ट ,द्वेष और दुःख ,संताप बढ़ा तो प्रभु आये


          हर युग में रूप नया धरे ,  हर बार धरा को प्रभु तारे

         थे कभी बने श्री राम चन्द्र , तो कभी बने मोहन प्यारे

        नारायण से नर रूप लिए  , सरे दुष्टो को संहारे
       
                                         जब-जब भक्तो ने याद किया , पतवार बचाने प्रभु आये

                                         हे नारायण ................................

        तुमने रावण को संहारा , और दुष्ट कंस को भी मारा

         हिरिन्याकश्यप,हिरिन्याक्क्ष और , पापी हयग्रीव को उद्धारा

       हर बार नया अवतार किये , आये प्रभु भक्तो के द्वारे

                                          हे क्षीर सिन्धु वासी श्री हरी , हर बार पुकारे तुम आये

                                          हे नारायण ...................................

       शबरी भीलनी का जूठन खा , नवधा भक्ति का दान दिया

        अर्जुन के मन का क्लेष मिटा , गीता का उनको ज्ञान दिया

       उस भरी सभा में द्रुपद सुता की , लाज बचाने प्रभु धाये

                                           हे निराकार पालक जग के साकार रूप में प्रभु आये

                                            हे नारायण .............................


                       जय श्री सत्य नारायण भगवन आप के चरणों में शत शत नमन है .

The Daily Puppy