रविवार, 15 अगस्त 2010

देश ने पुकारा है...........................|

                        देश ने पुकारा है...........................|

मेरे देश के सभी वाशियों को मेरी तरफ से स्वन्त्रतादिवस की ढेर सारी शुभ कामनाएं | अपने देश का आज जो हल है उसे देखकर मुझे  बहुत कष्ट होता है पर किसी ने कहा है की "अकेला चना भाडं नहीं फोड़ सकता" इसी लिये मै अपने सभी देशवासियों को अपना सन्देश पहचाना चाहती हूँ |आज स्वंत्रता दिवस के दिन जब मै अपने देश के वीर शहीदों को याद कर रही थी तो मेरे मन में देश की आज जो दुर्गति हो रही है वो कविता का रूप लेने लगी और मैंने उसे इस प्रकार पंक्तिबद्ध किया है|जो भी गलतिया हो कृपया माफ करे|

  देश के सपूतो सुनो ,देश ने पुकारा है,
                               सुन पुकार तुम उठो ,वक्त का इशारा है|
देश के..........................

जिस तरह से देश हित में,
                                    प्राण तज गये पल में,
उन्ही देश भक्तो ने तुमको फिर पुकारा है,
अब न रुको बढ़ चलो ,स्वार्थ न गवारा है,|
देश ....................

राजनीती की बिसात ,बिछ चुकी है कैसी आज,
                            दाव पर लगा माँ को ,हंस रहा नाकारा है,
बन के कृष्ण आवो तुम,लाज फिर बचाओ तुम,
                            कह रही है माँ जननी ,बस तेरा सहारा है,|
देश.................................

अपनी माँ का देख हाल,दुखित हुए वीर लाल ,
                                   मिट गये जो देश हित में ,कर रहे है वो मलाल,
भेजते हमें सन्देश ,उठ पुकारता है देश,
                                    आर्त स्वर में कह रहा ,देश ये हमारा है,|
देश........................................

बढ़ चलो समर भू में,गाओ सभी एक स्वर में ,
                                          देश की भलाई को,बढ़ चलो सभी रण में,
आज न रुकेंगे हम, कर लिया है मन में प्रण,
                                          वीर पथ पे चलना ही,कर्म अब हमारा है.
देश...........................................|

रविवार, 8 अगस्त 2010

दोस्तों आज कल के इस मौसम में जहाँ हर तरफ पानी ही पानी बर्ष रहा है वाही कहीं -कहीं बरसात न होने के कारन सूखे के आसार नज़र आ रहे है. जैसे हमारे अकबरपुर शहर की तरफ | ऐसा लगने लगा है की इन्द्र देवता हम से नाराज़ हो गाये है.उनके इस व्यवहार से बस यही गाने को मन करता है की....................

              हरे रामा रक्षा  करो जदुवीर इंद्र रिसियाने रे हारी|
             
सावन सस्य  श्याम वसुधा चाहे ,उमणि-घुमणि घन बरसे रामा
                                           हरे रामा तब भये सूर्य सयाने  धन मुरझाने रे हारी |
              हरे रामा रक्षा करो जदुवीर इंद्र रिसियाने रे हारी |




भादौ भरे लाल पोखर तेहि,राज सकल जग सूखे रामा ,
                                       हरे रामा रोवै गरीब किसान ,राम रिसियाने रे हारी |
हरे रामा रक्षा करो जदुवीर इंद्र रिसियाने रे हारी |



क्वार कड़की कै का करिहै ,जब कुहिकी जाये किसनैया रामा ,
                                        हरे रामा चुनिगा चिरैया खेत तो का पछताने रे हारी |
हरे रामा रक्षा करो जदुवीर इंद्र रिसियाने रे हारी |



बूढ़ भये किधौ मन मोहन नहीं ,सूझत जगत बिपतिया रामा ,
                                            हरे रामा सोवो यशोदा के पूत पीताम्बर ताने रे हारी |
हरे रामा रक्षा करो जदुवीर इंद्र रिसियाने रे हारी |



देखि अनीति अधीर 'आर्त' से,सुरपति कतहु भेटाने रामा ,
                                       हरे रामा लाठिनी फोरी कापर ,निपट लेब थाने रे हारी |
   हरे रामा रक्षा करो जदुवीर इंद्र रिसियाने रे हारी |

The Daily Puppy