शनिवार, 24 दिसंबर 2011

वरदान मांगूंगा नही .....

shri   शिव मंगल सिंह सुमन जी द्वारा रचित कविता अत्यधिक  प्रेरणा दाई  है......



                                                           वरदान  मांगूंगा   नही .....




             यह हार एक विराम है

             जीवन महासंग्राम है

             तिल-तिल मिटूंगा पर दया की भीख मै लूँगा नहीं ,

                                                           वरदान मागुंगा नहीं |




           स्मृति सुखद प्रहरों के लिए

           अपने खन्दहारो  के लिए

           यह जन लो मै विश्व की संपत्ति चाहूँगा नहीं ,

                                                      वरदान मांगूंगा नहीं |




          क्या हर में क्या जीत में

         किंचित नहीं भयभीत मै

         संघर्ष पथ पर जो मिले यह भी सही वोह भी सही ,
          
                                                 वरदान मांगूंगा नहीं |



          लघुता न अब मेरी छुओ

           तुम हो महान  बने रहो

           अपने ह्रदय की वेदना मै ब्यर्थ त्यागूँगा नहीं ,

                                                   वरदान मांगूंगा नहीं |




           चाहे ह्रदय को ताप दो

           चाहे मुझे अभिशाप दो

          कुछ करो कर्तब्य पथ से किन्तु भागूँगा नहीं ,

                                                   वरदान मांगूंगा नहीं |


          

 


          

           

रविवार, 9 अक्तूबर 2011

                                                      इस तरह से मुझे वे सताते रहे ||





मई निवेदन करू किस  तरह से इसे ,

                                                     जिस तरह से मुझे वे सताते रहे |

तीर पर तीर बढ़ कर चलाते रहे ,

                                                 घाव पर घाव निशदिन बनाते रहे ||

प्रेम के पंथ पर हाथ मेरा पकड़ ,
                                            साथ ले वही यह सही बात है ;
पर,नही चल सके एक डग साथ में, 
                                                 रास्ता दूर से ही बताते रहे ||


पूर्ण विश्वास करते रहे हर तरह ,
                                             स्वप्न में भी नही दोष उनको दिया ;
हम दवा मान कर चल रहे थे जिन्हें ,
                                                 पीर वो ही निरंतर बढ़ाते रहे ||


घाव कितने दिए ,ये उन्हें क्या पता ,
                                                 पीर से कुछ नही था प्रयोजन उन्हें ;
चोट जब भी दिखाई ह्रदय खोल कर ;
                                                 वे खड़े सामने मुस्कुराते रहे ||


दीप जलता रहा ज्वाल-माला पहन ,
                                                   और अंगार उर से लगाये रहा ;
मात्र आलोक से था प्रयोजन उन्हें ,
                                                 रात भर बेधड़क वे जलाते रहे ||


अब निवेदन तथा अश्रु को छोड़ कर ,
                                                   और कुछ भी नही रह सका शेष है,
अश्रु -बोझिल पलक-पात्र से रात-दिन ,
                                                      मोतियाँ हम निरंतर लुटाते रहे ||


                                      ( डा.देवी सहाय पाण्डेय 'दीप" )


सोमवार, 3 अक्तूबर 2011

हम आये है तेरे चरणों में.........

                                                                     जय माता दी

                                                हम आये है तेरे चरणों में.........



आप सभी को नवरात्री और दशेहरा का पवन पर्व की ढेरो बधाईयाँ | माता दुर्गे आप सभी पर अपनी कृपा दृष्टी बनाये रखे और आप का दिन शुभ हो सदा पवित्र विचारो का वास आप के  मन में हो जय माँ शेरो वाली |
इसी आशा के साथ माता जी के विनय में मई अपने पिता श्री की वंदना माँ के चरणों में समर्पित कर रही हु आशा है आप सभी को पसंद हो ||||


        हम आये है तेरे चरणों में,हे माँ ! तन मन निर्मल कर दो |

        मेरे नैनों के प्यालो में, अपनी ममता का जल भर दो  ||
          
      
          हम आये है तेरे चरणों में.........


          मेरा जनम-जनम का प्यासा मन, माया मरुथल में भटक रहा ,

          करुना की फुहारे वर्षा  कर ,   ये आवागमन निष्फल कर दो ,

         हम आये है तेरे चरणों में.........
         
                                                       पग-पग पर ठोकर मुझको मिला, तृष्णा के उबड़ - खाबड़ में,

                                                      आलोकित कर नव ज्योति से माँ, आगे मेरी राह सरल कर दो||

            हम आये है तेरे चरणों में.........


       जिसने भी शरण चरणों की ली , उसने भवसागर पार किया,

      इस बार मेरी भी बारी है, करुना जल से शीतल कर दो ||

        हम आये है तेरे चरणों में.........



                                                       मेरे दिल में जगे तेरी भक्ति माँ , चरणों में तेरी अनुरक्ति माँ,

                                                        इस 'आर्त' का जीवन सफल बने, उर में ऐसा संबल भर दो ||    

       हम आये है तेरे चरणों में.........









बुधवार, 13 अप्रैल 2011

सचिन तेंदुलकर है महान |

                                                 सचिन तेंदुलकर है महान |



    भारत का सदा ही अपने कुशल कार्यो व स्वभाव से गौरव  बढ़ाने वाले महान बल्लेबाज और प्रभावकारी ब्याक्तित्त्व वाले सचिन तेंदुलकर को आज किसी प्रमाणपत्र की आवश्यकता नहीं है ये सिद्ध  करे  की की वो महान है और उन्हें भारत रत्न के पुरस्कार से सम्मानित  किया जाना चाहिए| हम सभी इसी इंतजार में है की कब कांग्र्रेस की सरकार को भी उनकी योग्यता का दर्शन होगा और वो उन्हें सम्मानित करेगी. ईश्वर से प्रार्थना है की वो इस रत्न का सही सम्मान कर सकने  की प्रेरणा दे हमारी अंधी सरकार को ...............
                          


                                                   जय श्री हरि | 

 


The Daily Puppy