गुरुवार, 29 अगस्त 2013

मेरे घनश्याम



                                      मेरे  घनश्याम 

 
 
 
 
                             मुरली बजा  के सबको लुभा के  चले आओ प्रभु घनश्याम 
 
                                                       आओ आओ ओ मेरे घनश्याम 
 
                            नैना छलकते है  मन  से तरसते है 
 
                                                                              अब न सताओ  भगवन 
 
                               हा चले आओ ओ मेरे घनश्याम। …… 
 
 
 
                रास रचाते हो , माखन चुराते हो  ढूंढें जो तुमको तो झट छुप जाते हो 
 
                 गोकुल  की गलियों की शान  चले आओ क्रिशन भगवान्  १
 
 
 
                    कंस से मामा  को स्वर्ग दिखाते हो अर्जुन सखा बनके रथ भी चलते हो 
 
                    देते हो गीता का ज्ञान  चले आओ सखा घनश्याम। .... २ 
 
 
 
 
                     कही गोपियाँ के कपडे चुराते हो ,कही अबलाओ की लाज बचाते हो 
 
                      तुमसे हमारा भी है मान  एक बार दरस दो हे राम। । 
                           

The Daily Puppy