शनिवार, 24 दिसंबर 2011

वरदान मांगूंगा नही .....

shri   शिव मंगल सिंह सुमन जी द्वारा रचित कविता अत्यधिक  प्रेरणा दाई  है......



                                                           वरदान  मांगूंगा   नही .....




             यह हार एक विराम है

             जीवन महासंग्राम है

             तिल-तिल मिटूंगा पर दया की भीख मै लूँगा नहीं ,

                                                           वरदान मागुंगा नहीं |




           स्मृति सुखद प्रहरों के लिए

           अपने खन्दहारो  के लिए

           यह जन लो मै विश्व की संपत्ति चाहूँगा नहीं ,

                                                      वरदान मांगूंगा नहीं |




          क्या हर में क्या जीत में

         किंचित नहीं भयभीत मै

         संघर्ष पथ पर जो मिले यह भी सही वोह भी सही ,
          
                                                 वरदान मांगूंगा नहीं |



          लघुता न अब मेरी छुओ

           तुम हो महान  बने रहो

           अपने ह्रदय की वेदना मै ब्यर्थ त्यागूँगा नहीं ,

                                                   वरदान मांगूंगा नहीं |




           चाहे ह्रदय को ताप दो

           चाहे मुझे अभिशाप दो

          कुछ करो कर्तब्य पथ से किन्तु भागूँगा नहीं ,

                                                   वरदान मांगूंगा नहीं |


          

 


          

           

The Daily Puppy