रविवार, 9 अक्तूबर 2011

                                                      इस तरह से मुझे वे सताते रहे ||





मई निवेदन करू किस  तरह से इसे ,

                                                     जिस तरह से मुझे वे सताते रहे |

तीर पर तीर बढ़ कर चलाते रहे ,

                                                 घाव पर घाव निशदिन बनाते रहे ||

प्रेम के पंथ पर हाथ मेरा पकड़ ,
                                            साथ ले वही यह सही बात है ;
पर,नही चल सके एक डग साथ में, 
                                                 रास्ता दूर से ही बताते रहे ||


पूर्ण विश्वास करते रहे हर तरह ,
                                             स्वप्न में भी नही दोष उनको दिया ;
हम दवा मान कर चल रहे थे जिन्हें ,
                                                 पीर वो ही निरंतर बढ़ाते रहे ||


घाव कितने दिए ,ये उन्हें क्या पता ,
                                                 पीर से कुछ नही था प्रयोजन उन्हें ;
चोट जब भी दिखाई ह्रदय खोल कर ;
                                                 वे खड़े सामने मुस्कुराते रहे ||


दीप जलता रहा ज्वाल-माला पहन ,
                                                   और अंगार उर से लगाये रहा ;
मात्र आलोक से था प्रयोजन उन्हें ,
                                                 रात भर बेधड़क वे जलाते रहे ||


अब निवेदन तथा अश्रु को छोड़ कर ,
                                                   और कुछ भी नही रह सका शेष है,
अश्रु -बोझिल पलक-पात्र से रात-दिन ,
                                                      मोतियाँ हम निरंतर लुटाते रहे ||


                                      ( डा.देवी सहाय पाण्डेय 'दीप" )


कोई टिप्पणी नहीं:

The Daily Puppy