रविवार, 2 मई 2010

बाग़-बाग़ दिल हुआ हमारा

मेरे प्यारे ब्लॉगर भाई बहनों आप सब के comments मिले जिससे मुझे अत्यधिक ख़ुशी  हुई आप सब के लिए मैंने कुछ लिखा शायद आप को पसंद आये .

आप सबो ने हमें शराहा
                                     बाग़-बाग़ दिल हुआ हमारा.
नमन आप सब को मेरा है
                                       कभी न छूटे  साथ हमारा
हुई ख़ुशी है मुझ को इतनी
                                         ज्यू  सागर में लहरे उठती 
मेरे प्यारे भाई बहनों 
                                  थामे रहना  हाथ हमारा 

बाग़-बाग़ दिल हुआ हमारा

आओं  करे प्रणाम उन्हें हम,
                                      जो थे देश के सच्चे हमदम 
उन्ही के पद चिन्हों  पर चल कर 
                                         देश को दे इक नया किनारा 
वे भी हम पर नाज़ कर सके 
                                       कुछ ऐसा हो कम हमारा 

बाग़-बाग़ दिल हुआ हमारा

धन्न्यवाद है आप सभी को 
                                          मिला आप  का साथ है हम को 
देश प्रेम की धार बहे यूँ 
                                        सागर में ज्यू  नदी की धारा
चलो करे कुछ देश की खातिर 
                                            आएगा न वक्त दोबारा 
आओं मिल कर बोले हम सब 
                                             एक साथ जैहिंद का नारा 
बाग़-बाग़ दिल हुआ हमारा.


                 धन्न्यबाद 

2 टिप्‍पणियां:

jyotipandey ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
आनन्‍द पाण्‍डेय ने कहा…

very good creation

The Daily Puppy